Saturday, May 29, 2010

भूंख, कभी ना शांत होने बाली.....>>>>> संजय कुमार

भूंख ! यह जरूरी नहीं की इन्सान को भूंख, सिर्फ पेट की भूंख को पूरा भरने के लिए लगती हो ! रोटी की भूंख तो इन्सान कैसे न कैसे मिटा ही लेता है ! लेकिन एक भूंख ऐसी है ! जिससे इन्सान का पेट कभी भी नहीं भरता , और वह भूंख है सफलता की भूंख ! सफलता पाने की भूंख एक ऐसी भूंख है जो कभी खत्म नहीं होती ! मैं कहता हूँ यह भूंख कभी खत्म होनी भी नहीं चाहिए ! जब तक आप सफलता न हासिल कर लें ! भूंख अच्छी है, अगर उसका उद्देश्य किसी अच्छे लक्ष्य को पाने के लिए हो ! अगर भूंख ऐसी हो जिसका लक्ष्य सफलता पाना हो, लेकिन गलत तरीके से , तो भूंख बुरी है ! इस भूंख का कोई अंत नहीं है ! और ना कभी होगा ! जैसे जैसे समय बढता जा रहा है ! जैसे जैसे आधुनिकता का चोला हम सब को अपनी गिरफ्त मैं ले रहा है , बैसे बैसे सफलता पाने का लक्ष्य भी बदलता जा रहा है ! आज का इंसान सफलता पाने के लिए अपना सब कुछ दांव पर लगा देता है ! और उसके बाद भी उसकी भूंख शांत नहीं होती ! भूंख यदि ऐसी हो जिसमे आपका लक्ष्य अच्छी सफलता पाना हो तो आपके लिए अच्छा है ! आपका समाज आपके चाहने बाले , आपके अपने आपके साथ होंतो बहुत अच्छा लगता है किसी भी सफल इन्सान को ! तब जाकर हम कह सकते हैं की आप एक सफल इन्सान है ! और आपने आज असली सफलता पा ली है ! आप एक श्रेष्ठ नागरिक कहलाने का हक और अधिकार रखते हैं !

आज जिसे देखो अपनी भूंख शांत करने के लिए सारी हदें पार कर रहा है ! फिर चाहे देश का युवा हो जो अपने को सफल बनाने के लिए और सफलता पाने के लिए किसी भी हद से गुजर रहा है ! हमारे देश की अभिनेत्रियाँ जो सफलता पाने के लिए कुछ भी कर गुजरने के लिए तैयार रहतीं हैं ! फिर चाहे पैसों के लिए या फिर और ज्यादा सफलता के लिए छोड़ दें सारी शर्मो-हया ! आज की अभिनेत्रियाँ जिस हद से गुजर रहीं हैं ! हमें भविष्य दिख रहा है ! की हम आगे अपने परिवार के साथ बैठकर कभी कोई फिल्म या टी व्ही सीरियल देख पायें ! क्योंकि इनकी भूंख ऐसी है जो मरते दम तक खत्म नहीं होगी ! भूंख, हमारी भटकती युवा पीड़ी की जो जल्द से जल्द सफलता पाने के लिए कोई भी घ्रणित कार्य करने से नहीं चूकती ! हमारे देश के नेताओं की कुर्सी पाने की भूंख ! इनकी भूंख ऐसी है जो शायद कभी नहीं मिटेगी ! और इनकी भूंख मैं ना जाने कितने बेक़सूर लोगों की जिंदगी उनका साथ छोड़ देंगी ! भूंख हमारे आज के साधू-संतों की जो जल्द से जल्द अपने आपको भगवान् का दर्जा दिलवाना चाहते हैं ! और इस भूंख को शांत करने के लिए ! आज देश मैं कर रहे हैं धर्म को बदनाम ! और इंसानियत को शर्मशार !

भूंख होना चाहिए ! सचिन तेदुलकर के जैसी जो आज भी भूँखा है रनों का जो देश की विजय मैं काम आयें ! भूंख होना चाहिए ऐसी सफलता पाने के लिए जो छोटी सी उम्र मैं हिमालय की चोटी पर पहुंचा दे ! अगर भूंख अपने देश की मान-मर्यादाएं बचाने के लिए हों तो अच्छा है ! भूंख, देश मैं फैले भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए हो तो अच्छा है ! हिन्दू-मुस्लिम के बीच की खाई को पाटने के लिए हो तो अच्छा है !

भूंख अगर अच्छे के लिए है तो अच्छा ............अगर गलत के लिए हो तो, बहुत बुरी ............................

धन्यवाद

6 comments:

  1. सुन्दर आलेख
    अच्छे के लिये भूख बढ़ती जाये

    ReplyDelete
  2. ...प्रसंशनीय अभिव्यक्ति !!!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर चिंतन.. बस भूंख को भूख और बैसे को वैसे कर लें संजय जी...

    ReplyDelete
  4. वैसे ये भी कहते हैं कि- 'गो धन, गज धन, बाज़ धन और रतन धन खान. जब आवे संतोष धन सब धन धूलि समान..'

    ReplyDelete
  5. बढिया लेख ...

    ReplyDelete