Thursday, December 1, 2011

माँगना हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है .....>>> संजय कुमार

माँगना भी कई तरह का होता है ! कोई सम्मान मांग रहा है तो कोई न्याय मांग रहा है ! कोई औलाद मांग रहा है तो कोई रोजगार मांग रहा है ! एक गरीब यदि मांगता है तो लगता है जैसे कोई भीख मांग रहा हो और यदि एक अमीर मांगे तो लगता है जैसे मदद मांग रहा हो ! देखा जाय तो एक हर एक इंसान अपने जीवन में जन्म से लेकर मृत्यु तक सिर्फ मांगने का ही कार्य करता है ! जन्म के पहले माता-पिता भगवान से औलाद मांगते है, कोई बेटा मांगता है तो कोई बेटी मांगता है ! ( आज भी हमारे देश में अमीर हो या गरीब सबसे पहले बेटा ही मांगता है ) बच्चे का जन्म होने पर अस्पताल में नर्स मांगती है , घर आने पर हिजड़े मांगते हैं , दोस्त यार पार्टी मांगते हैं , भाई-बहन नेग मांगते हैं ! माता-पिता बच्चे के लिए अच्छी शिक्षा मांगते हैं , अच्छी नौकरी मांगते हैं , लड़की है तो अच्छा घर-वर मांगते हैं ! लड़का है तो दहेज़ मांगते हैं ! युवा भी अच्छा जीवनसाथी मांगते हैं अच्छी नौकरी मांगते हैं ! बुढ़ापे में माता-पिता अच्छी जिंदगी मांगते हैं ! वैसे देखा जाय तो ये मांगने का सिलसिला जीवन भर चलता रहता है ! देखा जाय तो ये प्रकृति का नियम ही है , आज जो हम मांग रहे हैं बही कल हमारे बच्चे मांगेंगे ! देश में सरकार समर्थन मांग रही है ! " अन्ना हजारे " लोकपाल बिल मांग रहे हैं ! कलमाड़ी - राजा रिहाई मांग रहे हैं ! चोर के पकडे जाने पर पुलिस मांगती है ! आम जनता " कसाब " की फांसी मांग रही है ! बेगुनाह इन्साफ मांग रहा है ! सचिन " महाशतक " मांग रहा है ! जनता सरकार से काले धन का हिसाब मांग रही है ! सबसे ज्यादा अगर कोई मांगता है तो वो है इस देश का नेता क्योंकि वो हार बात के लिए हाँथ फैलाता है और मांगने का धंधा करता है ! पहले टिकिट फिर वोट फिर चुनाव में जीत फ़िर कुर्सी उसके बाद राहत ने नाम पर मदद कभी " सूखा ग्रस्त " कभी " बाढ़ पीड़ित " के नाम पर सिर्फ अपनी झोलियाँ भरने का धंधा करता रहता है ! वहीँ दूसरी ओर पेट की भूख मिटाने के लिए कोई भीख मांग रहा है तो को तन बेच रहा है ! देश के धार्मिक महापुरुष साधू-संत अपनी तिजोरियां भरने के लिए आम जनता से चढ़ावा मांग रहे हैं , आम जनता भी अपनी सुख- शांति मांगने के लिए अपनी गाढ़ी कमाई लुटा रही है ! मांगने के भी हज़ार तरीके होते हैं , एक तरीके से ना सही तो दुसरे तरीके से मांग ही लेते हैं ! मांगने पर आज तक कितने लोगों की मनोकामना पूर्ण हुई हैं ये तो बही बता सकता है जिसकी मनोकामना पूर्ण हुई हों या मांगने पर सब कुछ मिल गया हो !
सच कहा जाय तो मांगने पर कभी कुछ नहीं मिलता बल्कि हमें उसके लिए प्रयत्न करना पड़ता है ! वर्ना हम अंग्रेजों के गुलाम ना होते , अंग्रेजों ने मांगने पर हमें आज़ादी दे दी होती ! आज़ादी के लिए हमें लड़ना पड़ा , वीरों को कुर्बानियां देनी पड़ी तब जाकर हम आज़ाद हुए ! सचिन भी " महाशतक " के लिए पिछले २२ साल से खेल रहा है ! जीवन में अगर कुछ पाना है हांसिल करना है , सफलता के ऊंचे पायदान पर पहुंचना है तो मांगकर कुछ नहीं होगा इसके लिए हमें अपने जीवन में कुछ सिद्धांत बनाना होंगे , जीवन के लक्ष्यों को निर्धारित करना होगा , उनको पाने के लिए ईमानदार होना होगा , जी तोड़ मेहनत करनी होगी ! अपने अधिकार के लिए लड़ना होगा, कर्तव्यों और उत्तरदायित्वों का पालन करना होगा ! अब माँगना छोड़ दीजिये और लड़िये अपने हक की लड़ाई !

धन्यवाद

7 comments:

  1. हाँ हम स्वास्थ्य माँग रहे हैं। साथ मे साहस से बीमारी से लड भी रहे हसिं। बहुत अच्छा लगा आलेख। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सही लिखा है आपने ..

    ReplyDelete
  3. जीवन में अगर कुछ पाना है हांसिल करना है , सफलता के ऊंचे पायदान पर पहुंचना है तो मांगकर कुछ नहीं होगा इसके लिए हमें अपने जीवन में कुछ सिद्धांत बनाना होंगे , जीवन के लक्ष्यों को निर्धारित करना होगा , उनको पाने के लिए ईमानदार होना होगा , जी तोड़ मेहनत करनी होगी ! अपने अधिकार के लिए लड़ना होगा, कर्तव्यों और उत्तरदायित्वों का पालन करना होगा ! अब माँगना छोड़ दीजिये और लड़िये अपने हक की लड़ाई !
    Ekdam sahmat hun....bahut sashakt aalekh hai!

    ReplyDelete
  4. हमारी माँग है कि कोई माँग न करे।

    ReplyDelete
  5. मांगने पर काफी अच्‍छा विवेचन किया है। बस एक बात चूक गए कि ब्‍लाग पर लोग टिप्‍पणी मांगते हैं।

    ReplyDelete
  6. 'मांगने' का बहुत बढ़िया विश्लेषण-विवेचन किया है...आपने

    ReplyDelete
  7. माँग माँग माँग सभी मांगने में लगे रहते है

    ReplyDelete