Saturday, August 25, 2012

अपनों के बीच रहते हुए , अपनापन ढूँढना पड़ता है ...>>> संजय कुमार

आज इंसानों और जानवरों के बीच,
अंतर ढूँढना पड़ता है ! 
" संसद भवन " की भीड़ में से , 
सच्चा राजनेता ढूँढना पड़ता है !
 अपनों के बीच रहते हुए , 
अपनापन ढूँढना पड़ता है !
 हैं दोस्त हजार फिर भी , 
एक दोस्त ढूँढना पड़ता है !
रोज-रोज होते झगड़ों में हमें 
प्यार ढूँढना पड़ता है ! 
पति-पत्नी को एक-दुसरे में,
विश्वास  ढूँढना पड़ता है ! 
आज लोग गीतिका " तो कहीं " भंवरी "के लिए
इंसाफ ढूँढ रहे हैं! 
यहाँ तो देश की सर्वोच्च अदालतों में, 
इंसाफ ढूँढना पड़ता है !
इस कलियुग में माँ-बाप को ,
"श्रवण कुमार " ढूँढने पड़ते हैं !
बढ़ गए पाप, अत्याचार और बुराई कि, 
अब अच्छाई ढूँढनी पड़ती है ! 
बेईमानों के बीच रहते हुए ,
ईमानदारी ढूँढनी पड़ती है ! 
गली - गली बैठा है खुदा  फिर भी ,
खुदा की खुदाई ढूँढनी पड़ती है ! 
अनाथ , दर- दर की ठोकर खाते ,
बच्चों को माँ की ममता ढूँढनी पड़ती है !
पश्चिमी सभ्यता में ढले लोगों में, 
अब हमें अपनी सभ्यता ढूँढनी पड़ती है !
हैं इंसान करोड़ों में फिर भी ,
इंसानों में इंसानियत ढूँढनी पड़ती है !
देखों चहुँ ओर , भ्रष्टाचारी के गड्ढे हैं 
अब गड्ढों में हमें सड़क ढूँढनी पड़ती है ! 


धन्यवाद 
 

13 comments:

  1. अपवादों के दिन आ गये हैं।

    ReplyDelete
  2. अपनों के बीच रहते हुए ,
    अपनापन ढूँढना पड़ता है ! हैं दोस्त हजार फिर भी ,
    एक दोस्त ढूँढना पड़ता है ! रोज-रोज होते झगड़ों में हमें
    प्यार ढूँढना पड़ता है ! पति-पत्नी को एक-दुसरे में,
    विश्वास ढूँढना पड़ता है !
    bahut gehri bat kah di aapne.

    ReplyDelete
  3. अपने तो अब नाम के ही हैं!
    सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  4. जहाँ कुछ नहीं होता
    खोज वहीँ चलती है

    ReplyDelete
  5. वाह! बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
  6. आज 28/08/2012 को आपकी यह पोस्ट (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. और ढूंढते रह जाओगे वाली बात चरितार्थ हो रही है ....

    ReplyDelete
  8. अपनों के बीच रहते हुए , अपनापन ढूँढना पड़ता है ...
    ख़ूबसूरत रचना ...

    ReplyDelete
  9. बढिया कटाक्ष ...

    ReplyDelete
  10. अपनों के बीच रहते हुए , अपनापन ढूँढना पड़ता है .. wakai mein mushkil hai.

    ReplyDelete
  11. gaddhon me sadak dhundhna
    kya baat kah di aapne kamal
    rachana

    ReplyDelete