Wednesday, September 21, 2011

मैं अचेत ......>>>> संजय कुमार

हे पिता अनुभूति शक्ति
मैं अचेत
लडखडा रहे है मेरे पैर
आकर थाम लो हाँथ
अशांति , बैचैनी
और हताशा है छायी
अँधेरे के सिवा
और कोई नहीं है
पास मेरे
आके पिता
दो मुझको
प्रकाश , प्रेम का आधार
पाने को तेरा प्रत्यक्ष वात्सल्य
कब से लालायित है
मेरा मन
इसी इक्षा के सहारे ही
शायद अभी तक जीवित है
मेरा अंतर मन !


( प्रिये पत्नी गार्गी की कलम से )

धन्यवाद

15 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना है, लेकिन कुछ भूलों को सुधार कर पुनः संपादित करे तो ज्यादा सुंदर लगेगी।

    ReplyDelete
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. सुन्दर अभिव्यक्ति मन भावों की।

    ReplyDelete
  5. काफी अच्छी अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  6. सुन्दर अभिव्यक्ति, बेहतरीन कविता.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर हृदयस्पर्शी भावाभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति के लिये गार्गी जी को बधाई।

    ReplyDelete
  9. Aapko or Gargi ji ko sunder rachna ke liye badhai.

    ReplyDelete
  10. आभार आपका गार्गी की कविता पढ़वाने के लिए..

    ReplyDelete
  11. बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है......पढ़वाने के लिए....आभार

    ReplyDelete
  12. मनो भावों को बांधती ,समर्पण भाव की रचना ,आवाहन करती उस दिव्यता का जिसे हम सभी धारण करना चाहतें हैं .

    ReplyDelete
  13. Very interesting, excellent post. Thanks for posting. I look forward to seeing more from you. Do you run any other sites?

    India is a land of many festivals, known global for its traditions, rituals, fairs and festivals. A few snaps dont belong to India, there's much more to India than this...!!!.
    Visit for India

    ReplyDelete