Saturday, September 10, 2011

भूत हमें रोटी देता है , और आपको .....>>> संजय कुमार

अरे भई डरिये नहीं मैं कोई त्नंत्र मन्त्र की बात नहीं कर रहा हूँ ! और ना ही मैं आपको भूत - प्रेत की कहानियां सुना रहा हूँ ! मैं बात कर रहा हूँ उस भूत की जो चौबीस घंटे हमारे और आपके शरीर , दिमाग और हमारी नस में खून बनकर दौड़ता है ! इस भूत का कमाल हमने पिछले दिनों देखा जब उसने " अन्ना हजारे " को भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ! अब आप सोच रहे होंगे कि अन्ना का भ्रष्टाचार के खिलाफ आन्दोलन का भूत से क्या लेना देना ! अरे भई लेना-देना तो है अगर ये भूत नहीं होता तो शायद आज , यूँ ही अन्ना जी को इतना बड़ा जन समर्थन नहीं मिलता ! मैं पहले कुछ बातों पर आप लोगों को गौर करने के लिए कह रहा हूँ ! हम अक्सर अपने मिलने वाले लोगों से , अपने परिवार के सदस्यों से , पत्नि पति से , पति पत्नि से , यार दोस्तों से अक्सर कहते सुना है ! अक्सर पत्नियाँ पति से यही कहती हैं कि तुम्हारे ऊपर तो जैसे काम का भूत सवार है , बस चौबीस घंटे काम और सिर्फ काम , जैसे युवाओं को कहते सुना है , तेरे ऊपर तो प्रेम का भूत सवार है , बच्चों के साथ , बच्चों के ऊपर सिर्फ खेल का भूत सवार होता है ! किसी के ऊपर पढ़ाई का भूत सवार , किसी को गाने का भूत सवार , किसी को नाचने का भूत सवार , किसी को ब्लॉग लिखने का भूत सवार , किसी को रोने का , किसी को सफाई का , किसी को देश भक्ति का भूत सवार , इस तरह देखा जाये तो ये भूत लगभग हज़ार तरह का होता है और लगभग हर इंसान के अन्दर होता है ! इस भूत को हम " जुनून " के नाम से भी जानते हैं ! जब हमारे ऊपर काम का भूत सवार नहीं होगा तो क्या हम तरक्की कर सकते हैं ? हम तरक्की पाने के लिए , सफलता हासिल करने के लिए इस भूत को अपने अन्दर ग्रहण करते हैं तब जाकर हम सफल होते हैं ! " सच कहूँ तो यही भूत हमें रोटी देता है " खुशियाँ देता है , ऊंचे पायदान पर पहुंचाता है ! भूत शब्द का उपयोग हम लोग अक्सर छोटे बच्चों को डराने के लिए करते हैं ! बच्चों सो जाओ वर्ना भूत आ जायेगा , और बच्चा भी डर के मारे सो जाता है ! मेरा सभी माता-पिता से अनुरोध है कि आप बच्चों को भूत का नाम लेकर डराएँ नहीं बल्कि उसे जीवन में ग्रहण करने के लिए कहें वो भी सिर्फ अच्छी चीजों के लिए ! पिछले १० सालों में हमारे देश में जो संचार क्रांति आई है , जिस तरह से हमारे देश में प्रतिभाएं उभर कर सामने आई हैं। हमने विश्व स्तर पर बहुत नाम कमाया हो चाहे वो कोई भी क्षेत्र हो वो सब इसी भूत की बजह से ससिल किया है ! अगर आज का युवा इस भूत को धारण कर सफलता के लिए प्रयास नहीं करेगा तो शायद ही कभी वह सफलता हासिल कर पाए ! आज हमने देखा है बचपन से ही कई बच्चों पर बहुत कुछ करने का भूत सवार होता है ! कोई खिलाडी बनने के लिए , कोई गायक बानने के लिए , कोई डांसर बनने के लिए , कोई IAS , IPS, MBBS, ENGINEERING, NAVY, POLICE बनने के लिए बचपन से ही मेहनत करता है ! और जब तक उसके सिर पर भूत सवार नहीं होगा तब तक शायद ही वो सफलता हासिल कर सके ! भूत होना बहुत जरुरी है ! अगर देश के सीमाओं पर खड़े जवानों के दिलों में , सिर पर देश भक्ति का भूत सवार ना हो तो ये देश कब का दुश्मनों के हांथों तबाह और बर्बाद हो गया होता , जवान तो अपना काम ईमानदारी से करते हैं आज भी उनके सिर पर भूत सवार है ! किन्तु हमारे देश के भ्रष्ट नेताओं पर कभी भी ईमानदारी और देश भक्ति का भूत सवार नहीं हुआ ! अगर हुआ है तो देश को लूटने , बड़े -बड़े घोटाले करने , भ्रष्टाचार फ़ैलाने जैसे गंदे भूत सवार हुए हैं जो सिर्फ आम जनता का खून चूस रहे हैं ! हम नहीं चाहते ऐसे भूत जो इंसान को और इंसानियत को खत्म कर रहे हों !


गुजारिश :---- जीवन में सफलता हासिल करने के लिए हम सभी को इस भूत को अपने अन्दर ग्रहण करना होगा ! वैसे तो भूत हमेशा हमारे शरीर के अन्दर होता है ! जरुरत है उसे जगाने की , तो सोते हुए भूत को जगाइए और सफलता के ऊंचे पायदान पर बढ़ते चले जाइये !


धन्यवाद

8 comments:

  1. गहन चिन्तनयुक्त जीवनोपयोगी लेख....

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति , आभार

    ReplyDelete
  3. बधाई!!! भूत को पा लेने की ....

    ReplyDelete
  4. Ye bhoot sawaar hona bhee kitna zarooree hai!

    ReplyDelete
  5. बहुत सार्थक सन्देश !

    ReplyDelete
  6. कुछ पाने का जुनून सदा ही बना रहे।

    ReplyDelete
  7. महिम लाल , भोपालSeptember 12, 2011 at 9:41 AM

    भूत वाकई ज़रूरी है... पर यह भी याद रखें की अति हर चीज़ की बुरी ही होती है |

    ReplyDelete