Friday, July 22, 2011

दौर ..........>>>>> संजय कुमार

एक ऐसा दौर आया
कि अपनों की वह
पुरानी छाप मिट गयी
एक भयानक तस्बीर खिंच गयी ,
वह सुखद हालात ,
वह चैन ,
जो कुछ था सब मिट गया
अब तो गर्म रेत रह गयी
लोग ना बदले ,
रिश्ते ना बदले ,
पर छाप बदल गयी ,
और फिर सोच बदलनी पड़ी !

( प्रिये पत्नि गार्गी की कलम से )

धन्यवाद

12 comments:

  1. ये ज़िन्दगी है ये सब तो रिश्तों मे होता ही रहता है। अच्छे भाव। तो गार्गी भी लेखिका हैं? आशा है आगे भी उनको और पढने का अवसर मिलेगा। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  2. गार्गीजी की रचना बहुत अच्छी है ......आगे भी लिखती रहें

    ReplyDelete
  3. waah,bahut accha likha gargi ji

    ReplyDelete
  4. लोग ना बदले ,
    रिश्ते ना बदले ,
    पर छाप बदल गयी ,
    और फिर सोच बदलनी पड़ी !

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, गार्गी जी...

    ReplyDelete
  5. गार्गीजी की संवेदनशील रचना के लिए आपको और गार्गीजी को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी रचना गार्गी जी....

    ReplyDelete
  7. बदलते रिश्तों पर सटीक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. सम्बन्धों का प्रवाह सदा ही बदलता रहता है।

    ReplyDelete
  9. .....संवेदनशील अहसासों से परिपूर्ण बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति..बहुत सुन्दर.....आभार

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति......
    गार्गी जी ,हार्दिक बधाई

    ReplyDelete