Thursday, March 5, 2015

रंगों को भी किया बदनाम हमने ??? Happy Holi ..........( हैप्पी होली ) ………>>> संजय कुमार

इंद्रधनुष सात रंगों से बना होता है और यही सात रंग इंसान के जीवन में जन्म से लेकर मृत्यु तक साथ होते हैं ! इंसान के चरित्र का वर्णन , उसके व्यवहार , अच्छाई , बुराई , ख़ुशी - गम , सुख-दुःख , शांति - अशांति , सहयोग में - विरोध में, हर जगह इन्हीं रंगों की उपमा दी जाती है ! यूँ तो  हर रंग की अपनी एक पहचान होती है , उनका अपना एक अलग महत्व होता है ! जहाँ सफ़ेद रंग शांति का प्रतीक माना जाता है , अहिंसावादी इसी रंग से साये में काम करते हैं ,   तो कभी " विधवा नारी " की साड़ी , " माँ सरस्वती " का परिधान , सकारात्मक ऊर्जा के साथ और भी कई जगह सफ़ेद रंग के महत्व को माना जाता है ! हरा रंग बिखेरता हरियाली, पीला रंग खुशहाली, लाल रंग देता उमंग, गुलाबी बिखेरे गुलाबी छटा और नीला बिखेरे आसमानी घटा , यह सभी रंग कहीं ना कहीं इंसान के जीवन से जुड़े हुए होते हैं ! हमारे जीवन में रंग बहुत मायने रखते हैं ! बेटी के हाँथ पीले होना , बुरे का मुंह काला होना , चेहरे पर लाली तो खेतों में हरियाली , कहीं " नीलकंठ " तो कहीं " पीतांबर " , आजकल इंसान भी गिरगिट की तरह रंग बदल रहे हैं ! हमने रंगों को परिभाषित होते देखा है, या यूँ भी कह सकते हैं कि , बदनाम होते देखा है ! एक ऐसा रंग है जो कि इन सभी रंगों से जुदा है और वो रंग " काला "  रंग है , इस रंग की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि ,यह रंग अगर किसी और रंग में मिल जाए तो वह रंग अपनी पहचान खो देता है, किन्तु इस  पर कोई और रंग अपना असर नहीं छोड़ पाता ! वैसे देखा जाय तो इस काले रंग को हम सब विरोध का रंग, के रूप में जानते हैं ! हम जब भी किसी चीज का विरोध करते हैं तो इसी रंग का इस्तेमाल करते हैं ! हमने ना जाने कितनी बड़ी - बड़ी समस्यायों में इसी रंग का प्रयोग कर इन समस्याओं का समाधान किया है , इसलिए इस रंग का अपना एक विशेष महत्व है ! किन्तु हमने इन रंगों को भी भला-बुरा नाम दे दिया , इन रंगों को भी बदनाम कर दिया , यहाँ तक की, हमने तो इस काले रंग को मनहूस रंग की उपाधि भी दे डाली , इसे बुराई का रंग, का नाम दे डाला ! आज का कड़वा सच तो ये है कि , अगर किसी गरीब के घर आज कोई लड़की जन्म लेती है तो आज वह उसके लिए एक अभिशाप के जैसा है ! ( हम कितने भी आधुनिक हो जाएँ सच तो यही है )  उस पर यदि उस लड़की का रंग काला हो तो " कोढ़ में खाज " वाली  कहावत चरितार्थ होती है , उस लड़की के साथ उसके काले रंग को जीवन भर कोसा जाता है और यह बिडम्बना है इस काले रंग की , हम इंसान ही हैं जो भेदभाव फैलाते हैं ! धर्म-मजहब के नाम पर , जातिवाद के नाम पर , उंच-नीच के नाम पर ,  शायद रंगों को बदनाम करने के पीछे भी हम इंसान ही हैं ! एक बार शायद राष्ट्रपिता " महात्मा गाँधी " को भी एक अंग्रेज ने " Black-Indian " कहकर संबोधित किया था और ट्रेन से बाहर कर दिया था ! दक्षिण अफ्रीका में काले गोरे की " रंगभेद नीति " को खत्म करने के लिए " नेल्सन मंडेला " को कड़ा संघर्ष करना पड़ा और कई बर्षों तक अपना जीवन जेल की चारदीवारी में गुजारना पड़ा , और कड़े संघर्ष के बाद उन्होंने सफलता हांसिल की और एक दिन दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति के पद तक पहुंचे ! अगर काले रंग को इतनी बुरी नजर से ना देखा जाता तो। ....... खैर 
जिस तरह किसी सिक्के के दो पहलू होते हैं ठीक उसी तरह इस रंग के भी दो पहलु हैं , जहाँ इस रंग में इतनी बुराई है तो वहीँ कुछ अच्छाई भी है ! आसमान में काले रंग के बादल देख किसानों के चेहरों खिलना, यह काले रंग के बादल किसानों के लिए सुख समृधि लाते हैं ! हिन्दू धर्म में काले रंग को बुरी नजर से बचाने वाला रंग भी माना जाता है , जहाँ लोग अपने घरों पर बुरी नजर से बचने के लिए काले रंग की चप्पल और ना जाने कितनी तरह की चीजें टांगते हैं, तो वहीँ माताएँ अपने बच्चों को बुरी नजर से बचाने ले लिए काले रंग का टीका लगाती हैं ! काला रंग कभी फक्र महसूस करता है तो कभी शर्मिंदगी , हम इंसानों ने ही सभी रंगों को परिभाषित किया है , उनकी अच्छे बुरे की पहचान हमने ही दी है , उन्हें नाम और बदनाम हमने ही किया है ! 

होली के हुड़दंग में सभी  रंगों को समान दृष्टि से देखते हुए , इस भाईचारे के पर्व को प्रेम-पूर्वक , हँसी - ख़ुशी , परिवार यार-मित्रों के साथ आनद के साथ मनाइये। ....... और बोलिए 

हैप्पी होली ……..................हैप्पी होली ………………………… हैप्पी  होली

धन्यवाद 

संजय कुमार 

4 comments:

  1. हैप्पी होली ……................... हैप्पी होली ………………………… हैप्पी होली
    आपको भी परिवार सहित हैप्पी होली ... अच्छा आलेख ...

    ReplyDelete
  2. होली की शुभकामनाएं .............सुन्दर लेख!

    ReplyDelete
  3. जी, रंगो पे जो आपने रौशनी डाली है वाकई बहुत ही दिलचस्प और नया सा अनुभव है पर बातें बहुत ही जानी पहचानी , बहुत खुबसूरत और रंगपूर्ण बयान है जो होली को और भी रंगीन बना रहा है ! आपको होली की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  4. Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
    Publish Online Book and print on Demand

    ReplyDelete