Saturday, February 26, 2011

छज्जे छज्जे का प्यार .....>>> संजय कुमार

ब्लोगर साथियों आज मैंने क्या लिखा क्या नहीं ? मुझे खुद नहीं पता , बस फ़ालतू था यूँ ही लिख दिया
अब नाराज ना होना ! कुछ तो भी लिखा है , हंसी मजाक में ही सही बस पढ़ लीजिये ..........

अब जल्द चढ़ेगा युवाओं पर
प्रेम का बुखार
आने बाला है , सोनी टी व्ही पर
छज्जे छज्जे का प्यार !
मंहगाई के इस दौर में
ना छत बन रही ,
ना बन रहा कोई छज्जा !
इन्टरनेट , मोबइल पर
आज चढ़ता प्रेम परवान
फिर कैसे संभव
छज्जे छज्जे का प्यार !
इस मंहगाई की मार से
पल पल पर होती
हमारी सरकार बीमार
मंहगाई का ना इलाज है ना उपचार !
आधुनिक दुनिया में
हुआ प्रेम का ये कैसा व्यापार
लैला को महिवाल से , तो कहीं
मजनू को सोहनी से प्यार
अब बताओ कैसे संभव
छज्जे छज्जे का प्यार !
जहाँ दिलों में भरी हुई है
अपनों के लिए नफरत
वो कैसे करेगा किसी और से प्यार
आप ही बताएं
क्या सफल होगा ?
छज्जे छज्जे का प्यार !

धन्यवाद

18 comments:

  1. न छतें, न छतों वाला प्यार।

    ReplyDelete
  2. छ्तों वाला प्यार..........हा हा हा....

    ReplyDelete
  3. क्या सफल होगा ?
    छज्जे छज्जे का प्यार !
    बहुत बढ़िया|

    ReplyDelete
  4. छ्तों वाला प्यार ! बहुत बढ़िया.... . ....

    ReplyDelete
  5. सही बात है छज्‍जे छज्‍जे के प्‍यार के लि‍ये भी तो वक्‍त और अन्‍य नि‍यम व शर्तें लागू होते ही हैं, शेयर मार्केट के उतार चढ़ाव की तरह।

    ReplyDelete
  6. हा हा हा बहुत बढिया संजय जी। शह्रों के तो छज्जे बहुत हैं हर सोसाईटी के फ्लैट्स मे कमरे चाहे छोटे हों मगर छज्जे जरूर हैं। बेहतरीन व्यंग। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  7. संजय जी ,
    मुझे उम्मीद है छज्जे का प्यार जरूर सफल होगा.
    टी.वी.,कंप्यूटर और मोबाइल के होते हुए जो प्यार छज्जे पर आ जाए वो सफल तो होगा ही.
    सलाम.

    ReplyDelete
  8. छज्‍जे छज्‍जे का प्‍यार। किरायेदार का छोरा और मालिक मकान की छोरी।
    सोनी टीवी ने इसके इतने प्रोमो दिखा दिए हैं कि अब कोई भी मालिक मकान अपने किरायेदार को शक की नजर से देखने लगेगा।

    ReplyDelete
  9. kya ye ghatiya aur sade dimaag wale T.V. director aur producer ke gobar bhare dimaag ki koi nai upaj hai???? :P
    achchha mara.

    ReplyDelete
  10. बहुत बढिया संजय जी।
    छज्‍जे छज्‍जे का प्‍यार।
    आपके लेखन ने इसे जानदार और शानदार बना दिया है....

    ReplyDelete
  11. पुराना स्टाइल है

    ReplyDelete
  12. छज्‍जे छज्‍जे का प्‍यार....
    वाह..क्या खूब ...

    ReplyDelete
  13. ab is chhjje ke pyar ke bare me kya kha jaye,
    achchha laga padkar.

    ReplyDelete
  14. बिलकुल सही .... पता नहीं सफल होगा या नहीं ... छज्जे छज्जे का प्यार :)

    ReplyDelete
  15. छज्जा और छत तो मिल सकती है पर समय का क्या ???

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छा लगा आपके विचार पढ़ के बहुत ही संदर है आपकी हर पोस्ट कभी आप मेरे ब्लॉग पे भी आईये
    दिनेश पारीक
    http://vangaydinesh.blogspot.com/

    ReplyDelete
  17. होली की अपार शुभ कामनाएं...बहुत ही सुन्दर ब्लॉग है आपका....मनभावन रंगों से सजा...

    ReplyDelete